खूंटी जिले की 22 अभ्यर्थियों ने जेईई मेंस की परीक्षा उत्तीर्ण करने में सफलता पाई है. जिसमें सारी कस्तूरबा गांधी आवासीय बालिका विद्यालय में अध्ययन करने वाली लड़कियां है. उन्होंने कस्तूरबा गांधी आवासीय बालिका विद्यालय के विशेष कक्षा सपनों की उड़ान योजना के तहत पढ़ाई करके अपनी लगन और मेहनत से उत्तीर्ण किया है. जो आगे इंजीनियरिंग की पढ़ाई के लिए नामांकन कराएगी. ये खूंटी जिला नक्सल प्रभावित जिला रहा है. वहीं कस्तूरबा विद्यालय में पढ़ने वाली वैसी बच्चियां जिनके मां या पिताजी नहीं हैं या फिर काफी गरीब बच्चियां हैं. जिला शिक्षा पदाधिकारी ने बताया कि जिले से 22 बच्चियों का जेईई मेंस के लिए कॉम्पिटिशन में उत्तीर्ण हुए हैं. जिसमें 4 अभ्यर्थी जेईई मेंस एडवांस परीक्षा पास की है. यह जिले की बच्चियों की एक अच्छी उपलब्धि है.

कस्तूरबा गांधी आवासीय बालिका विद्यालय की वार्डन पूजा कुमारी ने बताया कि 23 विद्यार्थी जेईई परीक्षा में बैठी थी. जिसमें चार अभ्यर्थी मेंस एडवांस में उत्तीर्ण हुई. विद्यार्थियों में लग्न और मेहनत रही कि वे लोग परीक्षा पास कर पायी. कस्तूरबा गांधी आवासीय बालिका विद्यालय में तीन वर्ष से बच्चियां परीक्षा लिख रही है. जिसमें बच्चियां अच्छा कर रही हैं. मौके पर क्वालीफाई करने वाली सपना कुमारी ने बताया कि वो जेईई मेंस परीक्षा के बारे पता नहीं था. साइंस पढ़ने के लिए यहां आयी थी लेकिन जब यहां आयी तो पता चला कि इंजीनियरिंग की पढ़ाई के लिए तैयारी कर सकती है तो तैयारी शुरू की.

विशेष क्लास के द्वारा तैयारी करने लगी और फिर आज जेईई मेंस एडवांस में उत्तीर्ण हो गई. अब इंजीनियरिंग की पढ़ाई किसी अच्छे कॉलेज में कर सकती है. विद्यार्थी रिया कुमारी ने बताया कि मां पिताजी गरीब हैं जो पढ़ाई नहीं करा पाते. लेकिन कस्तूरबा गांधी आवासीय विद्यालय में आने से पढ़ाई कर पायी हूं. इससे अब आगे बढ़ने का रास्ता खुल गया.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *