प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को कहा कि मेरे पास देश के लिए बड़ी योजनाएं हैं। किसी को डरने की जरूरत नहीं है। मेरे फैसले किसी को डराने या किसी को कमतर करने के लिए नहीं होते हैं।

न्यूज एजेंसी एएनआई को दिए साक्षात्कार में प्रधानमंत्री मोदी से सवाल किया गया कि आप अपने भाषण में कहते हैं कि अभी तो यह ट्रेलर है, अभी तो बहुत कुछ करने वाला हूं। आपका विजन क्या है? इस पर प्रधानमंत्री ने कहा, यह बात किसी को डराने के लिए नहीं है। मेरे फैसले देश के विकास के लिए हैं। युवाओं के लिए हैं। मेरे विजन में देश के 15-20 लाख लोगों के विचारों को समाहित किया गया है। मैं देश की आवश्यकता देखता हूं। हर परिवार का सपना कैसे पूरा हो, यह मेरे दिल में है। इसलिए कहता हूं कि ‘जो हुआ है, वह ट्रेलर है’ लेकिन, मैं और अधिक करना चाहता हूं।

2024 और 2047 को मिक्सअप न करें

मोदी ने 2047 के लक्ष्य को लेकर कहा कि 2047 और 2024 दोनों को मिक्सअप नहीं करना चाहिए। दोनों अलग-अलग चीजें हैं। देश जब आजादी के 75 साल मना रहा था, उसी समय मैंने यह विषय लोगों के सामने रखना शुरू किया था। मैं कहता था कि 2047 में देश की आजादी के 100 साल होंगे। ये मील का पत्थर होगा। ये ऐसी चीजें हैं, जो व्यक्ति में नए संकल्प भरती हैं। मेरा मानना है कि ये एक मौका है। इन 25 साल का हम सर्वाधिक उपयोग कैसे करें। हर संस्थान अपना लक्ष्य बनाए कि मैं इतना करूंगा। 2024 में चुनाव का जो क्रम है, वो आया हुआ क्रम है। लोकतंत्र में चुनाव को सामान्य तरह से नहीं लेना चाहिए।

यह बड़ा महापर्व है। इसे लोकोत्सव के रूप में मनाना चाहिए।

दस प्रमुख बातें

1 मेरे निर्णय किसी को डराने के लिए नहीं हैं। मेरे पास देश के लिए बड़ी योजनाएं हैं।

2 चुनाव को लोकोत्सव की तरह मनाएं। यह एक महापर्व है।

3  कार्यकर्ता महत्वपूर्ण हैं। नेताओं को अपने बोलने की जिम्मेदारी लेनी चाहिए।

4  केंद्रीय एजेंसियां अच्छा काम कर रही हैं। केंद्रीय एजेंसियों ने जिन पर कार्रवाई की है, उनमें से 97 लोग राजनीति से संबंधित नहीं हैं

5  ईडी ने 2014 से पहले पांच हजार करोड़ की संपत्ति अटैच की थी। मेरे कालखंड में एक लाख करोड़ की संपत्ति अटैच हुई है।

6  राम मंदिर पहले विपक्ष का हथियार था। अब मंदिर बन गया तो यह मुद्दा उनके हाथ से चला गया।

7  हम एक देश एक चुनाव को लेकर प्रतिबद्ध हैं। देश के लोगों ने समिति को सकारात्मक सुझाव दिए हैं।

8  सनातन के खिलाफ बयान पर कांग्रेस को खुद से पूछना चाहिए।

9  चुनावी बॉन्ड के कारण पैसे का पता चल रहा है। जब विपक्ष के नेता ईमानदारी से सोचेंगे, हर किसी को पछतावा होगा।

10  पैसा किसी का भी लगा हो, उत्पाद से देश की मिट्टी की सुंगध आनी चाहिए ।

ईडी और सीबीआई अच्छा काम कर रहीं

मोदी ने कहा कि ईडी और अन्य केंद्रीय एजेंसियां अच्छा काम कर रही हैं। जिन कानूनों के तहत केंद्रीय एजेंसियां कार्रवाई कर रही हैं, उनमें से कोई हमारी सरकार में नहीं बना। चुनाव आयोग सुधार का कानून हम लेकर आए। पहले तो एक परिवार के करीबी को चुनाव आयुक्त बना दिया जाता था।

राम मंदिर का मुद्दा विपक्ष के हाथ से चला गया

राम मंदिर प्राण प्रतिष्ठा को राजनीतिक रंग देने के आरोपों पर मोदी ने कहा, इसका राजनीतिकरण किसने किया।

जब हमारी पार्टी पैदा भी नहीं हुई थी, उस समय कोर्ट में यह मामला निपटाया जा सकता था। ये वोट बैंक का हथियार था, इसलिए इसे पकड़कर रखा गया और बार-बार भड़काया गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *