बिहार में शिक्षा विभाग की कमान जबसे के के पाठक ने संभाली है तबसे आए दिन वो कोई न कोई नया फरमान जारी करते ही रहते हैं। राज्य के अंदर शायद ही कोई ऐसा दिन गुजरता हो जब पाठक के जरिए टीचरों और शिक्षा विभाग के कर्मियों को लेकर कोई नया आदेश नहीं जारी होता हो। इसी कड़ी में अब शिक्षा विभाग के अपर मुख्य सचिव के के पाठक ने स्कूलों में निरिक्षण के लिए जाने वाली टीम को लेकर नया गाइडलाइन जारी किया है।

दरअसल, शिक्षा विभाग के तरफ से जारी इस नए आदेश में कहा गया कि, जब भी कोई अधिकारी / कर्मी किसी विद्यालय में निरिक्षण को जाएं तो सबसे पहले विद्यालय के सभी कमरों के ताले खोलकर उस परिसर का निरीक्षण करें। प्रधानाध्यापक को यह स्पष्ट निर्देश दिया जाए कि वह सुबह 9 बजे से पहले सभी दरवाजों के ताले खोलें और विद्यालय अवधि के बाद सभी कमरों में वापस ताले लगाएं। इसके साथ ही साथ विद्यालय में साफ-सफाई ठीक से हो रही है या नहीं एवं शौचालय, क्लासरूम, फर्नीचर,लाईब्रेरी की साफ-सफाई हुई या नहीं इसका भी जांच करें।

इसके आगे उन्होंने कहा कि, सरकार द्वारा भेजे गए विभिन्न उपकरण / किट (FLN कि, NCERT किट) तथा खेल हेतु भेजे गए सामग्रियों का प्रतिदिन इस्तेमाल होता है या नहीं। इसके आलावा लैब लाईब्रेरी कार्यरत है या नहीं इसका भी ठीक ढंग से जांच करें। प्रत्येक माह के अन्त में मासिक परीक्षा, प्रत्येक सप्ताह टेस्ट और प्रत्येक दिन होमवर्क दिया जा रहा है या नहीं इसका भी ख्याल रखें।

विद्यालय में कितने प्रकार के खाते हैं और उनमें कितनी राशि है, इसकी भी स्थिति ली जाए। अन्त में जब उपरोक्त बिन्दुओं पर काम पूरा कर लिया जाए, तब शिक्षकों/ छात्रों की उपस्थिति के आंकड़े संग्रहित किया जाए। यदि परिसर में कोई निर्माण हो रहा है तो यह देखा जाए कि यह यथासंभव वर्टीकल हो। यह ध्यान रखा जाए कि यथासंभव खेल का ज्ञान / प्रार्थना मैदान में ताबड़तोड़ भवन / कमरे बनाकर विद्यालय के हरे- भरे इलाकों को खराब नहीं किया जाए।

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *