मुजफ्फरपुर जिले में एक डॉक्टर का अजब कारनामा सामने आया है. निजी अस्पताल में हर्निया का ऑपरेशन कराने गए बुजुर्ग मरीज की डॉक्टर ने नसबंदी कर दी. जब बुजुर्ग ने इसकी जांच सरकारी अस्पताल में कराई तो उसे जानकारी हुई. फिलहाल आरोपी डॉक्टर के खिलाफ जांच के आदेश दिए गए हैं.

बिहार के मुजफ्फरपुर जिले में डॉक्टर की लापरवाही का बड़ा मामला सामने आया है. एक निजी अस्पताल में डॉक्टर ने हर्निया के ऑपरेशन के दौरान एक बुजुर्ग की गलत नस काट दी, जिससे उसकी नसबंदी हो गई. जब ऑपरेशन के बाद भी बुजुर्ग को राहत नहीं मिली तो उसने सरकारी अस्पताल में इसकी जांच कराई. जांच में इस मामले का खुलासा हुआ. फिलहाल निजी अस्पताल के डॉक्टर के खिलाफ जांच के आदेश दिए गए हैं.

वहीं गलत ऑपरेशन की जानकारी मिलने के बाद मरीज और परेशान हो गया. उसने कहा कि हर्निया का ऑपरेशन करना था, लेकिन डॉक्टर ने बिना सोचे-समझे सीधे उसकी नसबंदी ही कर दी.

मरीज ने कहा कि उसने इसकी सरकारी अस्पताल के सिविल सर्जन से की है. डॉक्टर की लापरवाही के शिकार मरीज का नाम पच्चू सहनी है. वह औराई प्रखंड का रहने वाला है.

पहले फीस जमा कराई, फिर किया ऑपरेशन

औराई प्रखंड के बोखरागांव निवासी पीड़ित मरीज पच्चूसहनी को यूरिन से संबंधित बीमारी थी.

इसको लेकर उसने औराई के ही एक निजी नर्सिंग होम में जांच कराई थी. जांच में पता चला कि हर्निया संबंधी समस्या है. डॉक्टर ने ऑपरेशन कराने की सलाह दी. डॉक्टर की सलाह पर पच्चू सहनी ने फीस जमा कर दी, जिसके बाद डॉक्टर ने ऑपरेशन कर दिया.

करीब साढ़े तीन महीने पहले पच्चूसहनी ने ऑपरेशन कराया था.

ऑपरेशन के बाद भी जब उसकी समस्या कम होने के बजाय और बढ़ गई तो उसने सरकारी अस्पताल में जांच कराई. जांच के दौरान जब डॉक्टर ने पच्चू सहनी से नसबंदी की बात बताई तो वह हैरान रह गया.

आरोपी डॉक्टर के खिलाफ जांच के आदेश

निजी अस्पताल के डॉक्टर ने पच्चूसहनी के हर्निया के ऑपरेशन के बदले दूसरी ट्यूब काट कर नसबंदी कर दी थी,

जिससे उसको पेशाब संबंधी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा था. जांच में बात सामने आने के बाद पच्चू सहनी ने इसकी शिकायत सरकारी अस्पताल में की. बाद में मामला सिविल सर्जन के सामने पहुंचा. सिविल सर्जन ने जांच के आदेश दिए हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *